भविष्य की रिलायंस का ‘अनिल अंबानी’ कौन होगा?

भविष्य की रिलायंस का ‘अनिल अंबानी’ कौन होगा?

लगभग 206 बिलियन अमेरिकी डॉलर के बाजार पूंजीकरण के साथ, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) भारत की सबसे बड़ी बहुराष्ट्रीय समूह कंपनी है। कपड़ा व्यवसाय से शुरू होकर कंपनी की वर्तमान में आठ सहायक कंपनियां हैं जो ऊर्जा, पेट्रोकेमिकल्स, प्राकृतिक गैस, खुदरा, दूरसंचार और मास मीडिया के क्षेत्र में काम करती हैं। कंपनी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश धीरूभाई अंबानी ने वास्तव में अपने पिता धीरूभाई अंबानी की विरासत को बनाए रखा है।

धीरूभाई अंबानी की मृत्यु के कारण रिलायंस इंडस्ट्रीज का वितरण हुआ और अनिल अंबानी को रिलायंस इन्फोकॉम, रिलायंस एनर्जी और रिलायंस कैपिटल का व्यवसाय मिला। पुरानी व्यावसायिक योजनाओं के कारण, अनिल अंबानी के नेतृत्व वाला समूह अधिक नहीं बढ़ा और 2008 में 42 बिलियन अमरीकी डॉलर से अनिल अंबानी की कुल संपत्ति 2021 में शून्य हो गई।

RIL के बंटवारे का बीज
हाल ही में, मुकेश अंबानी ने अपने बेटे आकाश अंबानी को रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड के निदेशक मंडल के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त करने की घोषणा की है, जो आरआईएल के डिजिटल और दूरसंचार शाखा व्यवसाय को संभालती है। हालांकि मुकेश अंबानी Jio Platforms Ltd के अध्यक्ष बने रहेंगे, लेकिन इस फैसले ने RIL के उत्तराधिकार की योजनाओं के बीज बो दिए हैं।

भारत में आरआईएल के दूरसंचार बाजार को चलाने में मुकेश अंबानी की बेटी ईशा और बेटे आकाश अंबानी की महत्वपूर्ण भूमिका थी। उन दोनों युवा दिमाग से नए युग में RIL का नेतृत्व किया। उन्होंने व्यवसाय के भविष्य को महसूस किया और अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म पर Jio की क्षमता का विस्तार किया।

ईशा अंबानी को रिलायंस रिटेल
ईशा अंबानी की शादी तक दोनों साथ में जियो इन्फोकॉम की ग्रोथ स्टोरी लिख रहे थे। लेकिन आकाश अंबानी को Reliance Jio Infocomm Limited के निदेशक मंडल के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त करने के निर्णय से ऐसा लगता है कि मुकेश अंबानी अपने उत्तराधिकारियों को अपना व्यवसाय हस्तांतरित करने की सोच रहे हैं।

स्टैनफोर्ड ग्रेजुएट स्कूल ऑफ बिजनेस से एमबीए ईशा अंबानी की बिजनेस मैनेजमेंट में भी उतनी ही दिलचस्पी है। पारिवारिक व्यवसाय में आने से पहले उन्होंने मैकिन्से एंड कंपनी में व्यवसाय विश्लेषक के रूप में काम किया था। रिपोर्टों से पता चलता है कि वर्तमान में रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड के निदेशक पद पर कार्यरत, ईशा अंबानी को भी खुदरा उद्यमों के अध्यक्ष के रूप में नामित किया जा सकता है।

कौन हो सकता है अनिल अंबानी?
अनंत अंबानी का अभी भी RIL के कारोबार में आना बाकी है, लेकिन ईशा और आकाश अंबानी धीरूभाई अंबानी के व्यापारिक साम्राज्य की गद्दी संभालने के लिए तैयार हैं।

आकाश अंबानी रिलायंस की डिजिटल नीति पर काम कर रहे हैं। 2017 में Jio के किफायती फोन के लॉन्च से लेकर Haptik, Embibe, और Radisys जैसे प्रमुख अधिग्रहणों तक आकाश अंबानी का मुख्य ध्यान व्यवसाय के भविष्य पर है।
और पढ़ें:अरबपति मुकेश अंबानी ने छोड़ी Reliance Jio की कमान, अब ‘सिंहासन’ पर बैठेगा ये अंबानी प्रोफेशनल बिजनेस एनालिस्ट ईशा अंबानी कंपनी के रिटेल विस्तार पर फोकस कर रही हैं।

खुदरा बाजार का भविष्य भी तेजी से बदल रहा है और खुदरा क्षेत्र में उसका डिजिटल विस्तार खरीदारी के ग्राहक अनुभव में क्रांति लाने वाला है। भारत में मध्यम वर्ग की बढ़ती क्रय शक्ति के साथ ईशा अंबानी को विस्तार के लिए पर्याप्त ग्राहक आधार भी मिलेगा और रिलायंस के व्यवसाय को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगा।

ये दोनों ही व्यवसाय के भविष्य की गारंटी दे रहे हैं और उनका विशाल ग्राहक आधार विकास के लिए पर्याप्त संभावनाएं प्रदान करता है। आकाश अंबानी और ईशा अंबानी की व्यावसायिक सूझ-बूझ की असली परीक्षा उस दिन से शुरू होगी, जब दोनों अपने दम पर कारोबार का नेतृत्व करेंगे। इसके बाद ही असल मायनों में तय हो पाएगा कि कौन ‘मुकेश अंबानी’ है और कौन ‘अनिल अंबानी’।

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *