दिल्ली के लोगों के लिए 16 सुंदर रूट का तोहफ़ा, कई रिंग रोड और वॉक लेन हो रहा हैं तैयार. रात में घूमने का मज़ा दोगुना

दिल्ली के लोगों के लिए 16 सुंदर रूट का तोहफ़ा, कई रिंग रोड और वॉक लेन हो रहा हैं तैयार. रात में घूमने का मज़ा दोगुना

दिल्ली की सत्ता संभालने के बाद आम आदमी पार्टी यहां तमाम तरह के विकास के काम करने में लगी हुई है। स्कूलों की बिल्डिंगों को ठीक किया गया, लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के लिए मोहल्ला क्लीनिक खोले गए। इसी के तहत सरकार ने एक योजना ये भी बनाई थी कि दिल्ली की सड़कों को भी विश्वस्तर का बनाया जाए। जिससे इन पर चलने वालों को वर्ल्ड क्लास का अनुभव हो। इस योजना के तहत 16 पायलट प्रोजेक्ट्स शुरु किए गए थे। जिसमें से एक राजघाट से शांतिवन तक पर काम पूरा हो चुका है।

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने इस पायलट प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया उसके बाद अपने इंटरनेट मीडिया एकाउंट ट्विटर पर कुछ तस्वीरें भी शेयर की। उन्होंने लिखा कि दिल्ली की सड़को पर चलने के अनुभव को वर्ल्ड क्लास बनाने काजी का सपना अब सच होता हुआ दिख रहा है.. इस मिशन के तहत शुरू किए गए 16 पायलट प्रोजेक्ट्स में से एक, राजघाट से शांतिवन तक की सड़क पर हो रहे सौंदर्यीकरण के काम का अभी जायजा लिया..

अंतरराष्ट्रीय मानकों के तहत सड़कों के पुनर्विकास की योजना तैयार की गईं है। 16 पायलट परियोजनाओं (सड़क खंड नमूनों) के रखरखाव के लिए दिल्ली सरकार ने एजेंसी नियुक्त की है। ये एजेंसी ही इन खंड़ों की देखभाल करेगी, पेड़ पौधों का रखरखाव करेगी, इन खंडों में लगाए जा रहे ग्रेनाइट आदि की साफ सफाई करेगी और सुरक्षा कर्मी भी लगाएगी जो इन खंड़ों की निगरानी कर सकेंगे।

अक्टूबर तक इन पायलट प्रोजेक्ट के 16 में से नौ सड़क खंड तैयार होने हैं, अन्य खंड दिसंबर तक तैयार किए जाने का लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) का लक्ष्य है। इन खंडों के आधार पर दिल्ली में 540 किलोमीटर तक सड़कों को अंतरराष्ट्रीय मानकों के तहत विकसित किया जाएगा। पायलट प्रोजेक्ट के तहत लोक निर्माण विभाग 32.5 किलोमीटर लंबी सड़कों की दशा ठीक कर रहा है।

योजना के तहत लोक निर्माण विभाग की कुल 1259 किलोमीटर सड़कों में से 540 किलोमीटर लंबी सड़कों को अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर तैयार किया जाना है। इसके लिए नमूने के तौर पर ये 16 सड़क खंड तैयार किए जा रहे हैं। दुबई, सिंगापुर व लंदन जैसे देशों की तर्ज पर सड़कों के किनारे हरियाली और अन्य सुविधाएं विकसित की जा रही हैं। इस परियोजना को 31 दिसंबर तक पूरा कर लिया जाना है।

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *