“26/11 में जानें बचाई, 15 साल सेना में रहा पर बेरोजगार हूं, कौन सी नौकरी देंगे?,” पूर्व सैनिक का महिन्द्रा से सवाल

“26/11 में जानें बचाई, 15 साल सेना में रहा पर बेरोजगार हूं, कौन सी नौकरी देंगे?,” पूर्व सैनिक का महिन्द्रा से सवाल

भारत सरकार द्वारा लॉन्च की गई Agnipath Scheme के खिलाफ़ देश के लाखों युवा प्रदर्शन कर रहे हैं. कई राज्यों में प्रदर्शन ने हिंसात्मक रूप भी ले लिया. कुछ लोगों का मानना है कि ये स्कीम बहुत लाभदायक साबित होगी वहीं कुछ छात्रों का डर है कि इससे उनका करियर खराब हो जाएगा.

स्कीम लॉन्च होने के बाद से ही देशभर के छात्र सड़कों पर उतर चुके हैं और सरकार के खिलाफ़ मोर्चा खोल दिया है. छात्रों का आरोप है कि इस स्कीम से उनका भविष्य खतरे में पड़ जाएगा. गौरतलब है कि सरकार अग्निवीरों को नौकरी में प्राथमिकता देने की बात भी कर रही है.महिंद्रा ऐंड महिंद्रा ग्रुप के प्रमुख आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra)ने भी अग्निवीरों को अपनी कंपनी में नौकरी देने की पेशकश की.

आनंद महिंद्रा ने क्या कहा?
पूर्व सैनिक ने आनंद महिंद्रा से किए सवाल
पूर्व नौसेना चीफ़ अरुण प्रकाश ने भी सवाल किया
नेवी इंजीनियरिंग सेलर ने भी जताया गुस्सा
अग्निवीर स्कीम

आनंद महिंद्रा ने क्या कहा?
आनंद महिंद्रा से संदीप कुमार नामक शख्स ने ट्विटर पर पूछा, ‘आप अग्निवीर को महिंद्रा ग्रुप में कौन सी पोस्ट पर नौकरी देंगे?’ इसके जवाब में आनंद महिंद्रा ने लिखा, ‘कॉरपोरेट सेक्टर में अग्निवीरों के लिए नौकरी के कई मौके हैं. लीडरशिप, टीमवर्क और फ़िज़िकल ट्रेनिंग से लैस अग्निवीरों से इंडस्ट्री को फायदा होगा. वे ऑपरेशन से लेकर प्रशासन और सप्लाई चेन मैनेजमेंट तक के क्षेत्रों में मुख्य भूमिका निभाएंगे.’
पूर्व सैनिक ने आनंद महिंद्रा से किए सवाल

पूर्व सैनिक प्रवीण कुमार तेवतिया (Praveen Kumar Teotia) ने आनंद महिंद्रा से तीखे सवाल किए. प्रवीण कुमार ने ट्वीट के ज़रिए लिखा, ‘सर्विस के बाद 15 साल से मैं बेरोज़गार हूं. मैंने 26/11 हमले में गौतम अडानी समेत 185 लोगों की जानें बचाई थी. आप मुझे महिंद्रा ग्रुप में कौन सी नौकरी देंगे? सेना को 15 साल देने के बावजूद मेरी तरह कई लोग बेरोज़गार हैं.’
पूर्व नौसेना चीफ़ अरुण प्रकाश ने भी सवाल किया

नौसेना के पूर्व चीफ़, अरुण प्रकाश ने भी आनंद महिंद्रा से सवाल किया. अरुण ने कहा, ‘इस नई स्कीम का इंतज़ार क्यों? क्या महिंद्रा ग्रुप अब तक हज़ारों कुशल, अनुशासित पूर्व सर्विसमैन (जवान और अफ़सर) तक पहुंची, जो हर साल रिटायर होते हैं और दूसरा करियर ढूंढते हैं? आपके ग्रुप से डेटा मिल सकता है?’
नेवी इंजीनियरिंग सेलर ने भी जताया गुस्सा

नौसेना में इंजीनियर सेलर रह चुके, अभिषेक कुमार ने भी अग्निवीरों को नौकरी देने के कंपनियों के वादे पर सवाल किए. अभिषेक ने लिखा, ‘मैं नौसेना का पूर्व इंजीनियरिंग सेलर हूं, 31 जुलाई 2017 को नौसेना से रिलीज़ मिली. मैंने महिंद्रा ग्रुप से नौकरी देने का निवेदन किया, 5 साल बाद भी मैं बेरोज़गार हूं. और अब अचानक सारी कंपनियां अग्निवीर को नौकरी देने को राज़ी हो गई. क्या मज़ाक है…’

अग्निवीर स्कीम
14 जून को अग्निपथ स्कीम की घोषणा की गई. इस स्कीम के तहत 17.5 से 21 साल के युवाओं को 4 वर्षों के लिए सेना में भर्ती किया जाएगा, 4 साल बाद उनमें से सिर्फ़ 25% युवाओं को ही 15 साल या उससे अधिक समय के लिए सेना में रखा जाएगा. सरकार ने बाद में 2022 भर्ती के लिए अपर ऐज लिमिट बढ़ाकर 23 कर दी. सेना ने कहा कि अग्निवीर को एक खास रैंक और इनसिगनिया दिया जाएगा. 18 से कम आयु के युवाओं के एनरोलमेंट फॉर्म पर उनके माता-पिता का हस्ताक्षर अनिवार्य है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *