पहले से ज्यादा खतरनाक और ताकतवर, आ रहा है लड़ाकू विमान तेजस का नया वर्जन, जानें इसकी खासियत

पहले से ज्यादा खतरनाक और ताकतवर, आ रहा है लड़ाकू विमान तेजस का नया वर्जन, जानें इसकी खासियत

भारत में निर्मित हल्के लड़ाकू विमान तेजस की पूरी दुनिया में धूम मची हुई है. हाल के दिनों में कई देशों ने इसे खरीदने में दिलचस्पी दिखाई है. अब इस तेज का एक नया वर्जन आने वाला है, जो पहले से पहले से ज्यादा खतरनाक और ताकतवर होगा. बुधवार को कैबिनेट ने इस पर मुहर लगा दी. इसके अलावा सरकार ने पांचवी पीढ़ी स्टील्थ टेक्नोलॉजी को भी हरी झंडी दे दी है. माना जा रहा है कि इससे हमारी वायु सेना और भी ताकतवर हो जाएगी.

आखिर तेजस के नए वर्जन में क्या होगा खास और क्या है स्टील्थ टेक्नोलॉजी? आइए इसे विस्तार से समझते हैं….

भारत में निर्मित तेजस सिंगल इंजन वाला हल्का लड़ाकू विमान है. कहा जा रहा है कि तेजस के नए वर्जन को तैयार करने में सरकार 6500 करोड़ रुपये खर्च करेगी. सरकार ने इससे पहले ढाई हज़ार करोड़ का फंड जारी करने की बात कही थी. अब कुल मिलाकर इस नए प्रोजेक्ट के लिए 9000 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे. कमेटी ने इसके अलावा स्टील्थ टेक्नोलॉजी के साथ लड़ाकू विमान के लिए 15 हजार करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट को हरी झंडी दी है.

तेजस 2.0 में क्या है खास?

तेजस के नए वर्जन में ज्यादा ताकतवर इंजन लगाया जाएगा. इसमें पहले से ज्यादा लड़ने की क्षमता होगी. साथ ही इसमें पहले के मुकाबले ज्यादा हथियार लादे जा सकेंगे.

तेजस मार्क-1A में GE-F404 का इंजन लगा था, जिसमें पीक पावर की क्षमता 81 किलोन्यूटॉन्स थी. लेकिन अब नए वर्जन में GE-F414 का इंजन होगा. इसमें पीक वार की क्षमता 83 किलोन्यूटॉन्स होगी.

नया फाइटर स्वदेशी एक्टिव इलेक्ट्रॉनिकली स्कैन्ड एरे (AESA) रडार से भी लैस होगा. बेहतर चपलता के लिए फाइटर के पास पंखों के ठीक आगे कैनर्ड भी होंगे. ज़ाहिर है इससे नए तेजस का वजन भी बढ़ जाएगा.

तेजस-1 का वजन 14.5 टन था. लेकिन अब ये बढ़कर 17.5 टन पर पहुंच जाएगा. तेजस मार्क -2, 4.5 टन पेलोड ले जाने में सक्षम होगा. जबकि इससे पहले तेजस मार्क 1 में 3.5 टन की अधिकतम पेलोड क्षमता थी.

स्टेल्थ टेक्नोलॉजी क्या है?

स्टेल्थ टेक्नोलॉजी को भी मजबूत की जाएगी. बता दें कि इसका इस्तेमाल फाइटर जेट में किया जाता है.

दरअसल साधरण फाइटर जेट अगर किसी दुश्मन के पास पहुंचता है तो रडार द्वारा उसका तुरंत पता लगाया जा सकता है. इसलिए स्टेल्थ टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से दुश्मन को चकमा दिया जा सकता है.

यानी एक ऐसा लड़ाकू विमान जो रडार की पकड़ में न आए. यानी उसकी मौजूदगी का अहसास कम से कम हो.

फिलहाल ये तकनीक किन देशों के पास
ये तकनीक काफी महंगी और जटिल है. लेकिन अब जल्द ही इस तकनीक का इस्तेमाल भारत में भी किया जाएगा. फिलहाल अमेरिका F/A-22 रैप्टर और F-35 लाइटनिंग फाइटर इससे लैस है. इसके अलावा स्टेल्थ टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल चीन के चेनगडु J-20 और रूस के सुखोई-57 में भी किया जा रहा है.

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *