बिहार के प्रोफेसर ने सैलरी लौटाने के लिए दिया था 23 लाख का चेक, लेकिन खाते में निकले सिर्फ ₹971

बिहार के प्रोफेसर ने सैलरी लौटाने के लिए दिया था 23 लाख का चेक, लेकिन खाते में निकले सिर्फ ₹971

कुछ दिनों से बिहार के एक प्रोफेसर खूब चर्चा में चल रहे हैं. मुजफ्फरपुर के नीतीश्वर कॉलेज के सहायक प्रोफेसर डॉ ललन कुमार के बारे में खबर आई कि लगभग तीन साल में एक भी क्लास में न पढ़ा पाने की वजह से वह अपनी करीब 23 लाख की सैलरी यूनिवर्सिटी को वापस लौटा रहे हैं.

अब कहानी में आया एक नया मोड़
इस खबर के फैलते ही उनकी खूब वाह-वाही हुई, मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक उनके इस कदम को सराहनीय बताया गया लेकिन अब कहानी में एक नया मोड़ आता दिख रहा है.

एकाउंट में हैं मात्र 970 रुपए
ललन कुमार ने यह दावा किया था कि पिछले 3 साल में वह एक भी छात्र को नहीं पढ़ा सके हैं. इस बात से दुखी हो कर उन्होंने अपने वेतन के 23.82 लाख रुपये विश्वविद्यालय को लौटा देने की पेशकश की. लेकिन अब इसकी हकीकत कुछ और ही बताई जा रही है. दरअसल, प्रभात खबर की एक रिपोर्ट के अनुसार यूनिवर्सिटी को लाखों रुपए का वेतन वापस करने का दावा करने वाले प्रोफेसर ने जिस अकाउंट नंबर का चेक विवि को दिया था, उसमें सिर्फ 970.95 रुपये ही हैं.

वहीं, नीतीश्वर महाविद्यालय शिक्षक संघ, BUTA की बैठक के दौरान प्रोफेसर ललन कुमार की उपस्थिति में बूटा की नीतीश्वर महाविद्यालय ने अपना पक्ष रखा. इस संबंध में पत्र जारी कर बताया गया कि प्रोफेसर ललन कुमार ने मीडिया पर आरोप लगाया है. उनका कहना है कि मीडिया ने उनके दावे को तोड़ मरोड़ कर दिखाया गया. उन्होंने कक्षा में छात्रों की उपस्थिति कम होने की बात कही थी लेकिन मीडिया ने उसे शून्य बताया.

वहीं BUTA के सचिव डॉ. रवि रंजन ने कहा कि प्रोफेसर ललन कुमार का मुद्दा कक्षा में छात्रों की कम संख्या नहीं बल्कि उनका ट्रांसफर है. जो ललन कुमार इससे पहले भी सोशल मीडिया के कई चैनल पर बता चुके हैं.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मामले के तूल पकड़ने के बाद प्रोफेसर ललन कुमार ने इस संबंध में माफी मांग ली है. उन्होंने कुलसचिव को माफीनामा भेजते हुए इसमें लिखा है कि वो भावना में बहकर ऐसा कर गये. कॉलेज को बदनाम करने की उनकी मंशा नहीं थी.

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *